रज़ा फ़ाउण्डेशन की वेबसाइट पर आपका स्वागत हैं।

कुछ और उपन्यास अंश Next
राजपाट तिलोत्तमा मजूमदार बांग्ला से रूपान्तर रामशंकर द्विवेदी

‘राजपाट’ तिलात्तमा मजूमदार का एक विशाल उपन्यास है। यह पहले ‘देश’ पत्रिका में धारावाहिक प्रकाशित हुआ था, बाद में पुस्तकाकार छपा। इसका कथास्त्रोत मुर्शिदाबाद का ग्रामीण इलाका ...

09-Apr-2017 03:08 AM 476
प्रूफ़रीडर के नाम खत आशुतोष भारद्वाज

अब अनन्या की बारी थी। अनन्या ने अपनी कहानी सुनायीः ‘परिवार के बारे में कहने को मेरे पास कुछ नहीं है, बचपन में भी मेरे साथ कुछ खास नहीं हुआ। मैं सीधा वहीं से शुरू करूँगी जब मैंने बीए के बाद एक ...

09-Apr-2017 03:06 AM 331
रानीखेत एक्सप्रेस गीत चतुर्वेदी

‘रानीखेत एक्सप्रेस’ वह उपन्यास है, जिस पर मैं पिछले सात साल से काम कर रहा हूँ। पाँँँच खण्डों में विभक्त इस उपन्यास के शुरुआती चार खण्डों का गद्य गल्प की सीमाओं के भीतर आता है, लेकिन पाँ ...

09-Apr-2017 03:03 AM 1092
नेमत खाना ख़ालिद जावेद उर्दू से लिप्यान्तर . नजमा रेहमानी

सर्दियाँ जा चुकी थीं। मार्च का महीना आ पहुँचा। घर भर में सूखे पीले और मुर्दा पत्तों का एक ढेर लगकर रह गया। मार्च की रूखी हवाओं के उदास झक्कड़ों में यह पत्ते बावर्चीखाने में भी जमा हो जाते, क्योंकि ...

09-Apr-2017 02:59 AM 799
वह और वह राकेश श्रीमाल

इतनी दूर से फ़ोन पर बात करते हुए मैं तुमसे बोल रहा हँू, तुम कितनी मेरे भीतर रहती हो।
तुमने मेरे भीतर से कोई जवाब नहीं दिया है। तुम मेरे कहे को मेरे ही कानों से सुन रही हो। तुम मेरे भीतर से मेर ...

09-Apr-2017 02:56 AM 589
आखिरी सवारियाँ सैयद मुहम्मद अशरफ़ हिन्दी लिप्यांतरणः रख़्शन्दा रूही मेंहदी

तालिबइल्मी के ज़माने में छुट्टियाँ गुज़ारने जब मैं घर आता और ये रोज़नामचा सफ़रनामा तन्हाई में पढ़ता तो आखि़री लाइन तक आते-आते बेहाल हो जाता। मैं रात भर जागता रहता और दिन में भी ठीक से सो नहीं पाता। ...

09-Apr-2017 02:54 AM 623
उपन्यास.अंश मदन सोनी एक

यह निश्चय ही वह नहीं है जो उसकी आकांक्षा थी। हालाँकि, काश मैं उसे पूरा कर पाती! इसलिए नहीं कि यह उसकी आकांक्षा थी, बल्कि इसलिए कि अन्ततः यह मेरी भी आकांक्षा बन गयी थी। उसके कुछ-कुछ हिंसक-से आरोपण क ...

09-Apr-2017 02:52 AM 3842
चीनी कोठी सिद्दीक़ आलम अनुवादः रिज़वानुल हक़

अदालत फिर से खुल गयी है। मगर मैं कुछ दिनों से अदालत नहीं जा रहा हूँ। मेरे सारे मुकदमों की तारीखें आगे बढ़ा दी गयी हैं। सत्र जज एक लम्बी छुट्टी पर चले गये हैं। कमरे की दोनों खिड़कियाँ खुली हुई हैं। ...

09-Apr-2017 02:47 AM 639
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - The Raza Foundation - Version 10.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^