रज़ा फ़ाउण्डेशन की वेबसाइट पर आपका स्वागत हैं।

निबन्ध Next
भारतीय उपन्यास की अवधारणा’ वागीश शुक्ल
1जिले अँगरेज़ी में दवअमस कहते हैं उसके लिए (बांग्ला और फिर वहाँ से) हिन्दी में ‘उपन्यास’ शब्द कैसे प्रचलित हो गया इसकी तह में जाने की कोई कोशिश किये बिना मैं ‘उपन्यास’ शब्द के एक प्राचीन शास्त्रीय प्रयोग की ओर ध्यान दि...
कैसे प्रकाशित हुई पथेर पांचाली सागरमय घोष अनुवाद: रामशंकर द्विवेदी
सागरमय घोष (1912-1999) ने उन्नीस सौ सैंतीस में अशोक कुमार सरकार के आग्रह पर देश-पत्रिका का कार्यभार सम्हाला। उन्होंने एक प्रतिज्ञा की थी कि मैं ‘देश’ पत्रिका में स्वयं कुछ नहीं लिखूँगा। फिर भी उनकी दो-तीन पुस्तकें निकली हैं जो अन्य पत्...
चित्रमय भारत सुधाकर यादव हिन्दी अनुवाद - डाॅ. गोरख थोरात
आरम्भभारत में राजनैतिक जागरूकता का दौर आरम्भ होते ही पूरे देश में ब्रिटिश उपनिवेशवाद के विरुद्ध आन्दोलन शुरू हुआ और सभी तबकों में विदेशी वस्तुएँ, विचार, संस्कृति को नकारते हुए स्वदेशी की भावना दृढ़मूल होने लगी। इस प्रक्रिया में औद्योगीकरण का ...
अहिंसा का विचार उदयन वाजपेयी
1.महात्मा गाँधी ने पारम्परिक दृष्टियों से कुछ प्रत्ययों को लेकर, उनमें अपने समय के अनुकूल नये अर्थ शामिल किये और इसके बाद ही वे उन्हें उपयोग में लाये। वैसे यह भी सच है कि शब्द और प्रत्यय इतिहास के परे वास करते हैं, वे इतिहास से अपने घर्षण के...
Copyright © 2016 - All Rights Reserved - The Raza Foundation - Version 14.00 Yellow Loop SysNano Infotech Structured Data Test ^